Home > Hindi > Vitaan Hindi Pathmala (CCE Edition)
Vitaan Hindi Pathmala (CCE Edition)

Vitaan Hindi Pathmala (CCE Edition)

Author(s) : Sanyukta Ludhra

वितान हिंदी पाठमाला को परिवर्तित और परिवर्धित करके वर्ष 2013 में इसे पुनर्संपादित किया गया है। यह श्रृंखला CBSE पाठ्यक्रम के अनुरूप है। यह पाठमाला Text-cum-workbook पद्धति पर तैयार की गई है। इस पाठमाला में नए से नए विषय पाठ के रूप में सम्‍मिलित किए गए है। हिंदी गद्य और पद्य की अधिकांश विधाओं का समावेश किया गया है। नवीनतम शिक्षण विधियों से लैस Digital Support के रूप में शिक्षक-वर्ग के लिए Free e-book का प्रावधान किया गया है। साथ ही Web Support के रूप में छात्र-छात्राओं के लिए Worksheets भी उपलब्‍ध कराई गई हैं। पाठ्य-पुस्तक के साथ प्रत्येक पाठ के Animation और वाचन की CD भी है। भाग-6,7,8 में पाठों के साथ यथा-स्‍थान कवि/लेखक का परिचय भी दिया गया है। परियोजना कार्य संपन्न कराने के लिए सुझावित गतिविधियाँ और आवश्यक Web Links भी दिए गए हैं।
इस पाठमाला में पाठों के साथ दिए गए अभ्यास प्रश्‍नों के अंकों का उल्लेख किया गया है जो शिक्षकों को प्रश्‍न-पत्र बनाने में सहायक होगा। अभ्यास के लिए पाठ के साथ यथा-स्‍थान Comprehension Passages तो दिए ही गए हैं अपठित गद्यांश भी हैं। केवल पठन के लिए दी गई सामग्री का प्रयोग परियोजना कार्य के लिए किया जा सकता है। प्रत्येक पाठ में आए जीवन-मूल्यों का उल्लेख किया गया है और  पुस्तक के अंत में प्रत्येक पाठ पर आधारित जीवनमूल्य परक प्रश्‍न दिए भी गए हैं। CBSE द्वारा ली जा रही समस्या निवारण मूल्यांकन परीक्षा के लिए छात्रों को तैयार करने के लिए कुछ प्रश्‍नों का भी समावेश किया गया है।

Series Details
प्रवेशिका से कक्षा तीन तक की पुस्तक को लिखा है श्रीमती संयुक्‍ता लूदरा, अवकाश प्राप्‍त रीडर, एन.सी.ई.आर.टी., नई दिल्ली।
कक्षा चार और पाँच की लेखिका हैं सुश्री उमा प्रिया और इनमें सृजनात्मक योगदान दिया है श्रीमती संयुक्‍ता लूदरा ने।
वितान पाठमाला 6,7,8 के लेखक हैं प्रसिद्ध शिक्षा शास्‍त्री वीरेंद्र जैन और डॉ. प्रदीप कुमार जैन वरिष्‍ठ अध्यापक मॉडर्न स्कूल बाराखंभा रोड, नई दिल्ली। वीरेंद्र जैन पिछले चार दशक से पत्रकारिता से संबद्ध हैं। दोनों विद्वान लेखक एन.सी.ई.आर.टी. की पाठ्यपुस्तक निर्माण समिति के सदस्य रहे हैं।

 
Vitaan Hindi Pathmala - Praveshika

Vitaan Hindi Pathmala - Praveshika

9789325973312 Book For Series 173.00 Coursebook