testimonials

As a Resource person/Teacher Trainer, working with Madhubun Publishing has been very satisfactory as well as enriching. The house has really worked meticulously on its resource materials, books, support literature making it one of the most sought after publishers in the current times. Also, not to forget the staff who go out of the way to provide full support for us during our workshops, travel, stay etc. It’s just been a year working with Madhubun and I look forward too many more years of working together.

Aditi Roy, Principal,
Mount Columbus School

व्याकरण संबोध 

मैं अपने विद्यालय में मधुबन द्वारा प्रकाशित हिंदी की पाठयपुस्तक गरिमा, गुंजन व् व्याकरण संबोध का प्रयोग कर रहा हूँ । ये सभी पुस्तकें मुझे शिक्षा के प्रति व्यापक दृष्टिकोण  व् मांग के अनुरूप तैयार की गयी प्रतीत होती हैं । एक और जहाँ मूल्याधारित प्रश्न विद्यार्थियों  में जीवन मूल्यों के विकास की और एक सकारात्मक पहल है तो वहीँ दूसरी और पाठ के अंत में दिए ICT  प्रश्न  व् वेबसाइट  छात्रों को आधुनिक टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल अपनी पढ़ाई में करने को प्रेरित करता है  ।
व्याकरण संबोध में व्याकरण के प्रत्येक प्रकरण को कविता के रूप पढ़ना व् याद करना अपने आप में ही एक अलग अनुभव है । हर प्रकरण का क्रमवार विश्लेषण अत्यंत ही सरल व् सुबोध है। निरंतर नए बदलाव के साथ इन पुस्तकों को हम तक पहुंचाने के लिए मधुबन टीम को बहुत बहुत धन्यवाद व् बधाई।

श्री चन्दन सिंह हिंदी अध्यापक व् कोऑर्डिनेटर
ऑरोबिन्दो स्कूल,
जोधपुर (राजस्थान)

व्याकरण संबोध

व्याकरण संबोध के सभी अंक (६-८) तक काफी शिक्षाप्रद व् रोचक लगे। इसमें सभी पाठों को उचित रूप से संयोजित किया गया हैं। विशेष रूप से मुहावरे व् लोकोक्तियाँ समझने में सरल व् रोचक लगीं। बच्चों के लिए ये पुस्तके बहुत अच्छीं हैं। आशा है कि इसमें और भी कई नए तथ्य जुड़ेंगे तथा यह और भी ज्ञानवर्धक बन पाएगी।

श्री मती अनुभा
लर्निंग पाथ स्कूल
चंडीगढ़

उत्कर्ष हिंदी पाठमाला और व्याकरण संबोध 

मधुबन द्वारा प्रकाशित उत्कर्ष और व्याकरण संबोध अच्छी पुस्तके हैं। उतकर्ष में साहित्य की सभी विधाओं का समावेष किया गया है । विद्यार्थियों की रूचि का ध्यान रखते हुए पाठ पर आधारित सामग्री का भी समावेष किया गया है । व्याकरण संबोध में बच्चीं के मानसिक स्तर के अनुरूप पाठय सामग्री का समावेष है । ये पुस्तकें पढ़ने से विद्यार्थियों  के ज्ञान में वृद्धि हो रही है ।

नीता सोनी,
इरो इंटरनेशनल स्कूल
जोधपुर

व्याकरण लतिका 

व्याकरण लतिका में व्याकरण की व्यावहारिक जानकारी सरलतम भाषा में दी गयी है। इसके माध्यम से विद्यार्थियों को व्याकरण जैसे दुरूह विषय को समझने में आसानी होगी। प्रत्येक पाठ के अंत में दिए गए अभ्यास कार्य नवीनतम पाठ्यक्रम के लिहाज़ से उपयोगी सिद्ध होंगे ।

श्री मती विभा अध्यापिका,
कमला नेहरू पब्लिक स्कूल,
फगवाड़ा

गुंजन हिंदी पाठमाला

गुंजन पाठ्यपुस्तक बच्चे के सर्वांगीण विकास के लिए सहायक है यह पाठ्यपुस्तक गोयनका विद्यालय में पिछले तीन साल से चल रही है यह शिक्षक व् विद्यार्थियों दोनों के द्वारा पसंद की गयी है इस पाठ्यपुस्तक की सभी कृतियाँ बच्चों का ज्ञानवर्धन करती हैं साथ ही साथ यह बच्चों की रुचियों व् क्षमताओं का ध्यान रखती हुई सरल भाषा में लिखी गयी है ।
हर पाठ के अंत में व्याकरण संवर्धन प्रश्न दिए गए हैं जो बच्चों को व्याकरण से जोड़े रखते हैं । पाठ शिक्षाप्रद हैं , नैतिक मूल्यों तथा स्वस्थ जीवनशैली पर बल दिया गया है । गुंजन पाठ्यपुस्तक  अमूल्य है। इस पाठ्यपुस्तक के गुण ही इसको अलग पहचान दिलाती है । इसी का नतीजा है कि यह सभी के द्वारा पसंद कि जाती है ।

श्री मती सुषीला भाटी
अध्यापिका

© Copyright 2018 madhubun books. All Right reserved.