TEACHER RESOURCE CENTER

Hind/Sanskrit

Vitaan Hindi Pathmala (CBSE Edition)

author: Mrs Sanyukta Ludhra, Uma Priya, Mr Virendra Jain, Dr. Pradeep Kumar Jain

वितान हिंदी पाठमाला को परिवर्तित और परिवर्धित करके वर्ष 2013 में इसे पुनर्संपादित किया गया है। इसके CBSE और ICSE दोनों संस्करण उपलब्‍ध हैं। यह पाठमाला Text-cum-workbook पद्धति पर तैयार की गई है। इस पाठमाला में नए से नए विषय पाठ के रूप में सम्‍मिलित किए गए है। हिंदी साहित्य  की अधिकांश विधाओं का समावेश किया गया है। नवीनतम शिक्षण विधियों से लैस Digital Support के रूप में शिक्षक-वर्ग के लिए Free e-book का प्रावधान किया गया है। साथ ही Web Support के रूप में छात्र-छात्राओं के लिए Worksheets भी उपलब्‍ध कराई गई हैं। पाठ्य-पुस्तक के साथ प्रत्येक पाठ के Animation और वाचन की CD भी है। पाठों के साथ यथा-स्‍थान कवि/लेखक का परिचय भी दिया गया है। परियोजना कार्य संपन्न कराने के लिए सुझावित गतिविधियाँ और आवश्यक Web Links भी दिए गए हैं।

इस पाठमाला में पाठों के साथ दिए गए अभ्यास प्रश्‍नों के अंकों का उल्लेख किया गया है जो शिक्षकों को प्रश्‍न-पत्र बनाने में सहायक होगा। अभ्यास के लिए पाठ के साथ यथा स्‍थान Comprehension Passages तो दिए ही गए हैं अपठित गद्यांश भी हैं। केवल पठन के लिए दी गई सामग्री का प्रयोग परियोजना कार्य के लिए किया जा सकता है। प्रत्येक पाठ में आए जीवन-मूल्यों का उल्लेख किया गया है और CBSE संस्करण में पुस्तक के अंत में प्रत्येक पाठ पर आधारित जीवन-मूल्य परक प्रश्‍न दिए भी गए हैं।

Surili Hindi Bodhmala

author: Poonam Jain, Priyanka Gill Jain, Dr. Pradeep Kumar Jain

अंग्रेज़ी माध्यम के विद्यालयों, अहिंदी भाषी क्षेत्रों के विद्यालयों में पूर्व प्राथमिक स्तर पर हिंदी का शिक्षण करवाने हेतु यह पुस्तक तैयार की गई है। इसमें Integrated knowledge अर्थात एक साथ अनेक को मिलाकर जानना के सिद्धांत का अनुपालन किया गया है।

Garima Hindi Pathmala (ICSE Edition)

author: Rama Gupta, Mr Virendra Jain, Dr. Pradeep Kumar Jain

गरिमा हिंदी पाठमाला 2016 में प्रकाशित की गई है। Text-cum-Workbook के रूप में प्रकाशित इस पाठमाला के CBSE और ICSE दो संस्करण हैं। दोनों ही संस्करण N.C.F-2005 के अनुरूप तैयार किए गए हैं। इस पाठमाला के पाठों के लिए रचनाओं का चयन करते समय भारत की विविधता और विभिन्न क्षेत्रों के चर्चित लोगों के अनुभव संसार को प्राथमिकता दी गई है। यह पाठमाला सरल भाषा में सहज ज्ञान उपलब्ध कराती है।

Hanste Gaate Seekhein Hindi

author: Madhubun Books Publication

‘हँसते-गाते सीखें हिंदी’ सिरीज  शिक्षार्थियों के बस्ते का बोझ न बढ़ाते हुए Text-cum-Workbook के रूप में तैयार की गई  है। इस पाठमाला में शब्दों के अर्थ और  पाठों का सार अंग्रेज़ी में दिया गया है।  दिए जाने से शिक्षकों के साथ ही छात्रों के अभिभावकों ने भी विषय-वस्तु को समझने में सरलता महसूस की है। प्रश्‍नों और अभ्यासों का स्तर भी विचार-विमर्श के पश्‍चात ऐसा रखा गया है जिन्हें हल  करने में छात्रों और उनके अभिभावकों को कोई कठिनाई न हो।
इस पाठमाला के भाग-1 में वर्णमाला लिखने के लिए लेखनी किस प्रकार चलानी है यह भी चिह्नों द्वारा सिखाया गया है। भाग-2, 3, 4, 5 में व्याकरण के तथ्य सरल भाषा में समझाए गए हैं। विषय-वस्तु भी ऐसी चुनी गई है जो छात्र-छात्राओं को अपने परिवेश के अनुकूल लगेगी। 

Garima Hindi Pathmala (CBSE Edition)

author: Rama Gupta, Mr Virendra Jain, Dr. Pradeep Kumar jain

गरिमा हिंदी पाठमाला 2016 में प्रकाशित की गई है। Text-cum-Workbook के रूप में प्रकाशित इस पाठमाला के CBSE और ICSE दो संस्करण हैं। दोनों ही संस्करण N.C.F-2005 के अनुरूप तैयार किए गए हैं। इस पाठमाला के पाठों के लिए रचनाओं का चयन करते समय भारत की विविधता और विभिन्न क्षेत्रों के चर्चित लोगों के अनुभव संसार को प्राथमिकता दी गई है। यह पाठमाला सरल भाषा में सहज ज्ञान उपलब्ध कराती है।

Madhu Mukhar Hindi Pathmala

author: Dr. S M Ahmed

'मधु मुखर पाठमाला अहिंदी भाषी  क्षेत्रों में हिंदी बोलचाल को बढ़ावा देने के निमित्त तैयार की गई पुस्तक श्रृंखला है। बच्चों को अपने आस-पास तथा दैनिक जीवन में प्रयोग आनेवाली वस्तुओं / स्थितियों में बोली जानेवाली सरल हिंदी सिखाना इस पुस्तक का उद्देश्य है।

Samarth Sanskritam

author: Dr. Sureshchandra Mishra

‘समर्थ संस्कृतम्’ भाग-1,2,3,4,5 संस्कृत की पाठमाला है। यह पाठमाला उन क्षेत्रों के लिए अधिक उपयोगी है जहाँ संस्कृत का अध्ययन कक्षा चार से आरंभ होता है। यह पाठमाला सी.बी.एस.ई. के पाठ्यक्रम के अनुरूप Text+Workbook+Grammar के मिले-जुले रूप में तैयार की गई है।

Utkarsh Hindi Pathmala (CBSE Edition)

author: Rama Gupta, Mr Virendra Jain, Dr. Pradeep Kumar jain

उत्कर्ष हिंदी पाठमाला वर्ष 2014 में प्रकाशित होनेवाली नवीन श्रृंखला है। इसमें ‌C.B.S.E. तथा  ICSE के सभी दिशानिर्देशों का पालन किया गया है। ‌Learning Without Burden को ध्यान में रखते हुए यह पाठमाला Text-cum-workbook पद्‌धति पर तैयार की गई है। इस पाठमाला में परंपरा का निर्वाह और आधुनिकता का समावेश सहज ढंग से किया गया है।

राष्‍ट्रीय पाठ्यचर्या ‌(N.C.F. 2005), N.C.E.R.T., C.B.S.E. तथा  ICSE के दिशानिर्देशों के अनुरूप तैयार की गई इस पाठमाला में केंद्रीय हिंदी निदेशालय द्‌वारा निर्धारित मानक वर्तनी का उपयोग किया गया है। हिंदी साहित्य की  विविध विधाओं का समावेश किया गया है। पुस्तक के आरंभिक पृष्‍ठों पर पाठ-मूल्यांकन, पाठ्यक्रम एवं अंक-विभाजन के साथ ही ‌O.T.B.A. (Open Text Based Assessment) की विस्तृत जानकारी दी गई है। पाठों का निर्माण हिंदी सहित विभिन्न भारतीय और विदेशी भाषाओं की रचनाओं से किया गया है। प्रसिद्‌ध लेखकों की रचनाओं के साथ ही च‌र्चित एवं गणमान्य व्यक्तियों के जीवनोपयोगी प्रेरक-प्रसंग या लेख भी शामिल किए गए हैं। शिक्षार्थी रचनात्मक गतिविधियों के माध्यम से अपना‌ विकास कर सकें इसलिए पाठों की संख्या अपेक्षाकृत कम रखी गई है। प्रवेशिका, भाग-‌1 और ‌2 में बहुरंगी सुंदर चित्रों द्‌वारा वर्णमाला और मात्राओं का ज्ञान कराया  गया है। भाग-‌3 से भाग-‌8 तक प्रत्येक पाठ में Òआज का विचारÓ ‌Valuable Thoughts के रूप में महान लोगों के सूक्‍तवाक्य और कहावतें शामिल की गई हैं।

पाठ-अभ्यास में VBQ, HOTS, M.I. और Web Links दिए गए हैं। इसके अतिरिक्‍‌त ‌सम-सामयिक विषयों पर अपठित गद्‌यांश, पद्‌यांश, लेखक-परिचय, मनोरंजक सामग्री, चिंतन तथा अध्ययन कौशलों का पर्याप्‍त समावेश किया गया है।

पाठों का आरंभ ‘आप जानते ही हैं’ उपशीर्षक से इस विश्‍वास के साथ किया गया है कि शिक्षार्थी पहले से ही बहुत कुछ जानते हैं। फिर ‘पाठ-प्रवेश’ के रूप में पाठ के पठन के प्रति जिज्ञासा का भाव जगाया गया है। पाठ समा‌प्‍ति पर ‘इस पाठ से हमने जाना’ उपशीर्षक के अंतर्गत पाठ के भाव-सार की आवृत्‍ति की गई है। अभ्यासों के अंत में ‘यह भी जानिए’ तथा ‘चलते-चलते’ शीर्षक के अंतर्गत कुछ अतिरिक्‍त ‌जानकारियाँ दी गई हैं।

ICT को शैक्षिक परिवेश का हिस्‍सा बनाया गया है। शिक्षा में उपकरणों एवं तकनीक (technique and tools) की उपयोगिता के लिए वेबसाइट्स, रचनाओं और पुस्तकों का भी उल्‍लेख किया गया है।

पाठ्यपुस्तक में सुझावित प्रश्‍नपत्र भी शामिल किए गए हैं

Vyakaran Latika

author: VishnuKant Shukla, Prof. Thakur Das, Mrs Sanyukta Ludhra

व्याकरण लतिका Series CBSE संस्करण के अनुरूप है। यह Text-cum-Workbook के रूप में बनाई गई है। यह बच्‍चों के बस्ते का बोझ कम करने की दिशा में किया गया सार्थक प्रयास है। पुस्तक में दिए गए अभ्यास Worksheet के रूप में हैं। हँसो-हँसाओ, बूझो-बुझाओ, सामान्य अशुद्धियाँ, परिभाषाएँ एक नज़र में, जैसी सामग्री के साथ ही Web chart for quick Reference भी दिया गया है। CBSE संस्करण के भाग-6,7,8 में Sample Papers भी दिए गए हैं। 

Vyakaran Sambodh

author: Dr. Pradeep Kumar Jain, Mr Manish Jain

व्याकरण संबोध (संपूर्ण मानक हिंदी व्याकरण) देश भर के अलग-अलग शैक्षिक बोर्ड; जैसे— सी.बी.एस.ई., आई.सी.एस.ई, आई.बी. आदि अन्य राज्यों से संबंधित शैक्षिक बोर्ड के पाठ्यक्रम को ध्यान में रखकर लिखी गई है। इसमें मूलत: परिचय, पहचान, परिवर्तन, प्रयोग, अंतर आदि मान्यताओं को स्थान दिया गया है।

Gunjan Hindi Pathmala (CBSE Edition)

author: Mrs Sanyukta Ludhra, Mrs Manju Mehra

गुंजन हिंदी पाठमाला को परिवर्तित और परिवर्धित करके वर्ष 2016 में उसका पुनर्संपादन किया गया है। यह पाठमाला प्रवेशिका से कक्षा आठ तक के लिए है। यह श्रृंखला CBSE और ICSE दोनों पाठ्यक्रमों के अनुरूप पृथक-पृथक उपलब्ध कराई गई है।

पाठ के साथ दिए गए भाषा-ज्ञान में पाठ से संबंधित व्याकरणिक तथ्यों से भी परिचित कराया गया है। पुस्तक के अंत में शब्दकोश देखने की विधि, संयुक्त व्यंजनों का मानक रूप और वर्तनी की दृष्टि से जिन शब्दों के दो रूप प्रचलित हैं, कक्षा के अनुसार उनकी सूची दी गई है। HOTS और Multiple Intelligence पर आधारित प्रश्नों के अतिरिक्त पुस्तक के अंत में अभ्यास के लिए सुझावित प्रश्नपत्र भी हैं। प्रश्नों के साथ ही Value Based Asessment के लिए भी प्रश्न हैं।

अध्ययन में रुचि बढ़ाने के लिए कक्षा दो से अतिरिक्त पठन सामग्री और आकर्षक Double Spread दिए गए हैं।

पाठमाला में कविता, कहानी, लेख, ललित निबंध, एकांकी, जीवनी, साक्षात्कार, संस्मरण, युद्ध वर्णन, विदेशी कहानी, पत्र, संस्मरणनुमा कथा जैसी विधाओं को लिया गया है। विषयवस्तु के रूप में प्रकृति और पर्यावरण, इतिहास, विकलांगों का समाज में व्यवस्थापन, भारत के रण बाँकुरे, आत्मग्लानि, पौराणिक कथाएँ, हास्य कथाएँ, पशु-पक्षी, विशेष व्यक्ति का परिचय आदि शामिल हैं।

कक्षा छह से पाठों के साथ यथा-स्थान कवि/लेखक का परिचय भी दिया गया है। परियोजना कार्य संपन्न कराने के लिए सुझावित गतिविधियाँ और आवश्यक Web Links भी दिए गए हैं।

Utkarsh Hindi Pathmala - (I.C.S.E. Edition)

author: Rama Gupta, Mr Virendra Jain, Dr. Pradeep Kumar Jain

उत्कर्ष हिंदी पाठमाला वर्ष 2014 में प्रकाशित होनेवाली नवीन श्रृंखला है। इसमें I.C.S.E. एवं विविध राज्य बोर्डों के सभी दिशानिर्देशों का पालन‌ किया गया है। ‌Learning Without Burden को ध्यान में रखते हुए यह पाठमाला Text-cum-workbook पद्‌धति पर तैयार की गई है। इस पाठमाला में परंपरा का निर्वाह और आधुनिकता का समावेश सहज ढंग से किया गया है।

राष्‍ट्रीय पाठ्यचर्या ‌(N.C.F. 2005), I.C.S.E. एवं विविध राज्य बोर्डों के दिशानिर्देशों के अनुरूप तैयार की गई इस पाठमाला में केंद्रीय हिंदी निदेशालय द्‌वारा निर्धारित मानक वर्तनी का उपयोग किया गया है। हिंदी गद्‌य और पद्‌य की विविध विधाओं का समावेश किया गया है। पुस्तक के आरंभिक पृष्‍ठों पर पाठ-मूल्यांकन, पाठ्यक्रम एवं अंक-विभाजन शामिल किए गए हैं। पाठों का निर्माण हिंदी सहित विभिन्न भारतीय और विदेशी भाषाओं की रचनाओं से किया गया है। प्रसिद्‌ध लेखकों की रचनाओं के साथ ही च‌र्चित एवं गणमान्य व्यक्तियों के जीवनोपयोगी प्रेरक-प्रसंग या लेख भी शामिल किए गए हैं। शिक्षार्थी रचनात्मक गतिविधियों के माध्यम से अपना‌ विकास कर सकें इसलिए पाठों की संख्या अपेक्षाकृत कम रखी गई है। प्रवेशिका, भाग-‌1 और ‌2 में बहुरंगी सुंदर चित्रों द्‌वारा वर्णमाला और मात्राओं का ज्ञान सिखाया गया है। प्रत्येक पाठ में ‘आज का विचार’ ‌Valuable Thoughts के रुप में महान लोगों के सूक्‍तवाक्य और कहावतें शामिल की गई हैं।

इस पाठमाला में हिंदी गद्‌य और पद्‌य की लगभग सभी विधाओं— कविता, कहानी, हास्यकथा, व्यंग्य, ललित निबंध, एकांकी, संस्मरण, आत्मकथांश, पत्र, रिपोर्ताज़, जीवनी, यात्रा-विवरण आदि को शामिल किया गया है। देश-विदेश की ऐतिहासिक घटनाओं, स्‍थानों, आविष्कारों, उप‌ल‌ब्धियों, विकलांग-जीवन, सैन्य-जीवन, स्‍त्री-शक्ति, विज्ञान और ललितकलाओं पर आधारित पाठों का निर्माण किया गया है।

पाठ-अभ्यास में HOTS, M.I. और Web Links दिए गए हैं। इसके अतिरिक्‍‌त ‌सम-सामयिक विषयों पर अपठित गद्‌यांश, पद्‌यांश, लेखक-परिचय, मनोरंजक सामग्री, चिंतन तथा अध्ययन कौशलों का पर्याप्‍त समावेश किया गया है।

पाठों का आरंभ ‘आप जानते ही हैं’ उपशीर्षक से इस विश्‍वास के साथ किया गया है कि शिक्षार्थी पहले से ही बहुत कुछ जानते हैं। फिर ‘पाठ-प्रवेश’ के रूप में पाठ के पठन के प्रति जिज्ञासा का भाव जगाया गया है। पाठ समा‌प्‍ति पर ‘इस पाठ से हमने जाना’ उपशीर्षक के अंतर्गत पाठ के भाव-सार की आवृत्‍ति की गई है। अभ्यासों के अंत में ‘यह भी जानिए’ तथा ‘चलते-चलते’ शीर्षक के अंतर्गत कुछ अतिरिक्‍त ‌जानकारियाँ दी गई हैं।

रचनात्मक गतिविधियाँ के लिए शिक्षार्थियों को अनेक गतिविधियाँ सुझाई गई हैं। ई-मेल, ई-इनवाइट्स आदि को शैक्षिक परिवेश का हिस्‍सा बनाया गया है। शिक्षा में उपकरणों एवं तकनीक (technique and tools) की उपयोगिता के लिए वेबसाइट्स, रचनाओं और पुस्तकों का भी उल्‍लेख किया गया है।

पाठ्यपुस्तक में सुझावित प्रश्‍नपत्र भी शामिल किए गए हैं जिनका निर्माण और अंक विभाजन ‌Unit-I&II और अद्‌र्धवार्षिक / वार्षिक पाठ्यक्रम के आधार पर किया गया है।

Aarohi Hindi Pathmala

author: Mrs Sanyukta Ludhra, Lekha Srivastava, Pratibha Pandey, Rupali Sinha, Fatima Kirmani

आरोही हिंदी पाठमाला वर्ष 2013 में प्रकाशित नई सीरीज़ है। यह पाठमाला प्रवेशिका से कक्षा आठ तक के लिए है। पाठों के साथ यथा-स्‍थान कवि/लेखक का परिचय भी दिया गया है। परियोजना कार्य संपन्न कराने के लिए सुझावित गतिविधियाँ और आवश्यक Web Links भी दिए गए हैं। अधिक अभ्यास कराने के लिए पाठमाला के साथ अभ्यास-पत्र भी उपलब्‍ध हैं। इस पाठमाला का संपादन श्रीमती संयुक्‍ता लूदरा ने किया है।

छात्रों की सुविधा के लिए कठिन-शब्दों के अर्थ उसी पृष्‍ठ पर दिए गए हैं। छात्रों के अधिग्रहण को जाँचने के लिए पाठों पर आधारित कार्टून भी दिए गए हैं। प्रश्‍नों का स्वरूप CBSE की नई परीक्षा प्रणाली के अनुरूप है। पाठों में रचनात्मक अभिव्य‌क्‍ति और Multiple Intelligence को एक Box में दिया गया है। प्रत्येक पाठ के आरंभ में जीवन-मूल्यों के साथ ही शिक्षक के लिए निर्देश हैं कि वे पाठ किस प्रकार आरंभ करें। छात्रों की अध्ययन में रुचि बढ़ाने के लिए Reading for Pleasure के पाठ भी दिए गए हैं।

विश्‍वास, प्रकृति, विकलांगों का समाज में व्यवस्‍थापन, भौगोलिक और वैज्ञानिक तथ्य, विशिष्‍ट व्य‌क्‍तियों का परिचय और जीवन-मूल्यों की शिक्षा देनेवाले पाठ कविता, विदेशी कहानी, लेख, यात्रावृत्‍तांत, पत्र, जीवनी जैसी विधाओं से लिए गए हैं। Reading for Pleasure  की सामग्री के साथ ही परियोजना निर्माण, शब्दकोश देखने की विधि और वर्तनी संबंधी की जानेवाली अशुद्धियों का परिचय भी दिया गया है। एक से सौ तक हिंदी की गिनती, F.A. Activities और Ist और IInd के लिए Text Papers भी दिए गए हैं।

Madhubun Saral Hindi Pathmala

author: Mrs Sanyukta Ludhra

मधुबन सरल हिंदी पाठमाला अपने नाम को सार्थक करती, भाषा को सरलता से सीखने-सिखाने की एक अनूठी Text-cum-Workbook श्रृंखला है। यह पाठमाला बच्‍चों की रुचि और स्तर के अनुकूल है तथा उन्हें प्रतिदिन के जीवन से जोड़ती है।

मधुबन सरल हिंदी पाठमाला में भाषा-ज्ञान को स्तरानुरूप सरल और रुचिकर (Learning without burden) बनाने का प्रयास किया गया है। बालकों के प्रतिदिन के जीवन से जुड़ी रोचक विषयवस्तु के चयन द्वारा भाषा को सहज और व्यावहारिक रूप में प्रस्तुत किया गया है।

मधुबन सरल हिंदी पाठमाला भाषा-ज्ञान के लिए सुझावित पाठ्यक्रमों पर आधारित है। पाठ्यपुस्तक तथा अभ्यास पुस्तिका दोनों का मिला-जुला रूप (Text-cum-Workbook) रखकर बस्ते का बोझ घटाया गया है। सहज, सरल और बोधगम्य भाषा का प्रयोग किया गया है।

बच्‍चों के प्रतिदिन के अनुभवों से जुड़ी तर्कशक्‍ति और वैज्ञानिक दृष्‍टिकोण को बढ़ावा देनेवाली रोचक विषयवस्तु का चयन किया गया है। पाठों को समेटते आकर्षक पृष्‍ठ तथा मोहक रंगीन चित्र दिए गए है।

स्तर के अनुरूप कविता, कहानी, वार्तालाप, घटना-वर्णन, पत्र, संस्मरण, लेख, भेंटवार्ता, नाटक आदि विधाओं से परिचय और विषयवस्तु में विविधता और नयापन है। भाषा में रुचि बढ़ाने के लिए अतिरिक्‍त पठन-सामग्री — ‘आनंद के लिए पढ़ना’ चुटकुले, पहेलियाँ तथा भाषा-खेल सम्मिलित किए गए है। सीखे गए ज्ञान को परखने के लिए सोचने-समझने, चिंतन तथा अध्ययन पर आधारित प्रश्‍न; नपे-तुले शब्दों में रोचक अभ्यास और संकेत भी है। सरल परिभाषाओं के अतिक्‍ति व्याकरण के व्यावहारिक पक्ष पर बल दिया गया है। जीने की कला सिखाना और मानवीय मूल्यों, ज्वलंत समस्याओं तथा स्वास्‍थ्यवर्धक आदतों पर विशेष सामग्री दी गई है। गतिवि‌‌धियों तथा परियोजना-निर्माण द्वारा — सुनना, बोलना, पढ़ना, लिखना, चिंतन तथा अध्ययन-कौशलों का निरंतर विकास किया गया है। सतत और व्यापक मूल्यांकन की दृष्‍टि से विविध अभ्यास दिए गए है।

Madhukiran Hindi Pathmala

author: Prof. RamJanam sharma, Sayed Matin Ahmed

मधुकिरण हिंदी पाठमाला अपने नाम को सार्थक करती, भाषा को सरलता से सीखने-सिखाने की एक अनूठी Text-cum-Workbook श्रृंखला है। यह पाठमाला बच्‍चों की रुचि और स्तर के अनुकूल है तथा उन्हें प्रतिदिन के जीवन से जोड़ती है।

मधुकिरण हिंदी पाठमाला में भाषा-ज्ञान को स्तरानुरूप, सरल और रुचिकर (Learning without burden) बनाने का प्रयास किया गया है। बालकों के प्रतिदिन के जीवन से जुड़ी रोचक विषयवस्तु के चयन द्वारा भाषा को सहज और व्यावहारिक रूप में प्रस्तुत किया गया है।

मधुकिरण हिंदी पाठमाला भाषा-ज्ञान के लिए सुझावित पाठ्यक्रमों पर आधारित है। पाठ्यपुस्तक तथा अभ्यास पुस्तिका दोनों का मिला-जुला रूप (Text-cum-Workbook) रखकर बस्ते का बोझ घटाया गया है। सहज, सरल और बोधगम्य भाषा का प्रयोग किया गया है। पाठों को समेटते आकर्षक पृष्‍ठ तथा मोहक रंगीन चित्र दिए गए हैं।

स्तर के अनुरूप कविता, कहानी, वार्तालाप, घटना-वर्णन, पत्र, संस्मरण, लेख, भेंटवार्ता, नाटक आदि विधाओं से परिचय और विषयवस्तु में विविधता और नयापन है। भाषा में रुचि बढ़ाने के लिए अतिरिक्‍त पठन-सामग्री (Reading for Pleasure) — ‘आनंद के लिए पढ़ना’ चुटकुले, पहेलियाँ तथा भाषा-खेल सम्मिलित किए गए हैं। सीखे गए ज्ञान को परखने के लिए सोचने-समझने, चिंतन तथा अध्ययन पर आधारित प्रश्‍न; नपे-तुले शब्दों में रोचक अभ्यास और संकेत भी हैं। सरल परिभाषाओं के अतिरिक्‍त व्याकरण के व्यावहारिक पक्ष पर बल दिया गया है। जीने की कला सिखाना और मानवीय मूल्यों, ज्वलंत समस्याओं, पर्यावरण के प्रति संदेवनशीलता तथा स्वास्‍थ्यवर्धक आदतों पर विशेष सामग्री दी गई है। गतिवि‌‌धियों तथा परियोजना-निर्माण द्वारा — सुनना, बोलना, पढ़ना, लिखना, चिंतन तथा सृजनात्मक-कौशलों का निरंतर विकास किया गया है। मूल्यांकन की दृष्‍टि से विविध अभ्यास दिए गए है।

Vitaan Hindi Pathmala (ICSE Edition)

author: Mrs Sanyukta Ludhra, Uma priya, Mr Virendra Jain, Dr. Pradeep Kumar Jain

वितान हिंदी पाठमाला को परिवर्तित और परिवर्धित करके वर्ष 2013 में इसे पुनर्संपादित किया गया है। इसके CBSE और ICSE दोनों संस्करण उपलब्‍ध हैं। यह पाठमाला Text-cum-workbook पद्धति पर तैयार की गई है। इस पाठमाला में नए से नए विषय पाठ के रूप में सम्‍मिलित किए गए है। हिंदी साहित्य  की अधिकांश विधाओं का समावेश किया गया है। नवीनतम शिक्षण विधियों से लैस Digital Support के रूप में शिक्षक-वर्ग के लिए Free e-book का प्रावधान किया गया है। साथ ही Web Support के रूप में छात्र-छात्राओं के लिए Worksheets भी उपलब्‍ध कराई गई हैं। पाठ्य-पुस्तक के साथ प्रत्येक पाठ के Animation और वाचन की CD भी है। पाठों के साथ यथा-स्‍थान कवि/लेखक का परिचय भी दिया गया है। परियोजना कार्य संपन्न कराने के लिए सुझावित गतिविधियाँ और आवश्यक Web Links भी दिए गए हैं।

इस पाठमाला में पाठों के साथ दिए गए अभ्यास प्रश्‍नों के अंकों का उल्लेख किया गया है जो शिक्षकों को प्रश्‍न-पत्र बनाने में सहायक होगा। अभ्यास के लिए पाठ के साथ यथा स्‍थान Comprehension Passages तो दिए ही गए हैं अपठित गद्यांश भी हैं। केवल पठन के लिए दी गई सामग्री का प्रयोग परियोजना कार्य के लिए किया जा सकता है। प्रत्येक पाठ में आए जीवन-मूल्यों का उल्लेख किया गया है और CBSE संस्करण में पुस्तक के अंत में प्रत्येक पाठ पर आधारित जीवन-मूल्य परक प्रश्‍न दिए भी गए हैं।

Vyakaran Latika (ICSE Edition)

author: Dr. Anuradha

व्याकरण लतिका Series CBSE संस्करण के अनुरूप है। यह Text-cum-Workbook के रूप में बनाई गई है। यह बच्‍चों के बस्ते का बोझ कम करने की दिशा में किया गया सार्थक प्रयास है। पुस्तक में दिए गए अभ्यास Worksheet के रूप में हैं। हँसो-हँसाओ, बूझो-बुझाओ, सामान्य अशुद्धियाँ, परिभाषाएँ एक नज़र में, जैसी सामग्री के साथ ही Web chart for quick Reference भी दिया गया है। CBSE संस्करण के भाग-6,7,8 में Sample Papers भी दिए गए हैं। 

Mehakti Rajnigandha Pathmala (With Cd) - 5

author: Mrs Sanyukta Ludhra, Prabha Sharma, Jharna Bose, Dr. Suresh Pant, Sashi Prabha

व्याकरण लतिका Series CBSE संस्करण के अनुरूप है। यह Text-cum-Workbook के रूप में बनाई गई है। यह बच्‍चों के बस्ते का बोझ कम करने की दिशा में किया गया सार्थक प्रयास है। पुस्तक में दिए गए अभ्यास Worksheet के रूप में हैं। हँसो-हँसाओ, बूझो-बुझाओ, सामान्य अशुद्धियाँ, परिभाषाएँ एक नज़र में, जैसी सामग्री के साथ ही Web chart for quick Reference भी दिया गया है। CBSE संस्करण के भाग-6,7,8 में Sample Papers भी दिए गए हैं। 

Mehakti Rajnigandha Pathmala (With Cd) - 4

author: Mrs Sanyukta Ludhra, Prabha Sharma, Jharna Bose, Dr. Suresh Pant, Sashi Prabha

व्याकरण लतिका Series CBSE संस्करण के अनुरूप है। यह Text-cum-Workbook के रूप में बनाई गई है। यह बच्‍चों के बस्ते का बोझ कम करने की दिशा में किया गया सार्थक प्रयास है। पुस्तक में दिए गए अभ्यास Worksheet के रूप में हैं। हँसो-हँसाओ, बूझो-बुझाओ, सामान्य अशुद्धियाँ, परिभाषाएँ एक नज़र में, जैसी सामग्री के साथ ही Web chart for quick Reference भी दिया गया है। CBSE संस्करण के भाग-6,7,8 में Sample Papers भी दिए गए हैं। 

Mehakti Rajnigandha Pathmala (With Cd) - 2

author: Mrs Sanyukta Ludhra, Prabha Sharma, Jharna Bose, Dr. Suresh Pant, Sashi Prabha

व्याकरण लतिका Series CBSE संस्करण के अनुरूप है। यह Text-cum-Workbook के रूप में बनाई गई है। यह बच्‍चों के बस्ते का बोझ कम करने की दिशा में किया गया सार्थक प्रयास है। पुस्तक में दिए गए अभ्यास Worksheet के रूप में हैं। हँसो-हँसाओ, बूझो-बुझाओ, सामान्य अशुद्धियाँ, परिभाषाएँ एक नज़र में, जैसी सामग्री के साथ ही Web chart for quick Reference भी दिया गया है। CBSE संस्करण के भाग-6,7,8 में Sample Papers भी दिए गए हैं। 

Mehakti Rajnigandha Pathmala (With Cd) - 1

author: Mrs Sanyukta Ludhra, Prabha Sharma, Jharna Bose, Dr. Suresh Pant, Sashi Prabha

व्याकरण लतिका Series CBSE संस्करण के अनुरूप है। यह Text-cum-Workbook के रूप में बनाई गई है। यह बच्‍चों के बस्ते का बोझ कम करने की दिशा में किया गया सार्थक प्रयास है। पुस्तक में दिए गए अभ्यास Worksheet के रूप में हैं। हँसो-हँसाओ, बूझो-बुझाओ, सामान्य अशुद्धियाँ, परिभाषाएँ एक नज़र में, जैसी सामग्री के साथ ही Web chart for quick Reference भी दिया गया है। CBSE संस्करण के भाग-6,7,8 में Sample Papers भी दिए गए हैं। 

Madhubun Hindi-8 (Rajasthan)

author: Madhubun Sampadak Mandal

व्याकरण लतिका Series CBSE संस्करण के अनुरूप है। यह Text-cum-Workbook के रूप में बनाई गई है। यह बच्‍चों के बस्ते का बोझ कम करने की दिशा में किया गया सार्थक प्रयास है। पुस्तक में दिए गए अभ्यास Worksheet के रूप में हैं। हँसो-हँसाओ, बूझो-बुझाओ, सामान्य अशुद्धियाँ, परिभाषाएँ एक नज़र में, जैसी सामग्री के साथ ही Web chart for quick Reference भी दिया गया है। CBSE संस्करण के भाग-6,7,8 में Sample Papers भी दिए गए हैं। 

Madhubun Hindi-5 (Rajasthan)

author: Madhubun Sampadak Mandal

व्याकरण लतिका Series CBSE संस्करण के अनुरूप है। यह Text-cum-Workbook के रूप में बनाई गई है। यह बच्‍चों के बस्ते का बोझ कम करने की दिशा में किया गया सार्थक प्रयास है। पुस्तक में दिए गए अभ्यास Worksheet के रूप में हैं। हँसो-हँसाओ, बूझो-बुझाओ, सामान्य अशुद्धियाँ, परिभाषाएँ एक नज़र में, जैसी सामग्री के साथ ही Web chart for quick Reference भी दिया गया है। CBSE संस्करण के भाग-6,7,8 में Sample Papers भी दिए गए हैं। 

Mehakti Rajnigandha Pathmala (With Cd) - 3

author: Mrs Sanyukta Ludhra, Prabha Sharma, Jharna Bose, Dr. Suresh Pant, Sashi Prabha

व्याकरण लतिका Series CBSE संस्करण के अनुरूप है। यह Text-cum-Workbook के रूप में बनाई गई है। यह बच्‍चों के बस्ते का बोझ कम करने की दिशा में किया गया सार्थक प्रयास है। पुस्तक में दिए गए अभ्यास Worksheet के रूप में हैं। हँसो-हँसाओ, बूझो-बुझाओ, सामान्य अशुद्धियाँ, परिभाषाएँ एक नज़र में, जैसी सामग्री के साथ ही Web chart for quick Reference भी दिया गया है। CBSE संस्करण के भाग-6,7,8 में Sample Papers भी दिए गए हैं। 

Mehakti Rajnigandha Pathmala (With Cd) - 7

author: Mrs Sanyukta Ludhra, Prabha Sharma, Jharna Bose, Dr. Suresh Pant, Shashi Prabha

व्याकरण लतिका Series CBSE संस्करण के अनुरूप है। यह Text-cum-Workbook के रूप में बनाई गई है। यह बच्‍चों के बस्ते का बोझ कम करने की दिशा में किया गया सार्थक प्रयास है। पुस्तक में दिए गए अभ्यास Worksheet के रूप में हैं। हँसो-हँसाओ, बूझो-बुझाओ, सामान्य अशुद्धियाँ, परिभाषाएँ एक नज़र में, जैसी सामग्री के साथ ही Web chart for quick Reference भी दिया गया है। CBSE संस्करण के भाग-6,7,8 में Sample Papers भी दिए गए हैं। 

Mehakti Rajnigandha Pathmala (With Cd) - 8

author: Mrs Sanyukta Ludhra, Prabha Sharma, Jharna Bose,Dr. Suresh Pant, Shashi Prabha

व्याकरण लतिका Series CBSE संस्करण के अनुरूप है। यह Text-cum-Workbook के रूप में बनाई गई है। यह बच्‍चों के बस्ते का बोझ कम करने की दिशा में किया गया सार्थक प्रयास है। पुस्तक में दिए गए अभ्यास Worksheet के रूप में हैं। हँसो-हँसाओ, बूझो-बुझाओ, सामान्य अशुद्धियाँ, परिभाषाएँ एक नज़र में, जैसी सामग्री के साथ ही Web chart for quick Reference भी दिया गया है। CBSE संस्करण के भाग-6,7,8 में Sample Papers भी दिए गए हैं। 

Mehakti Rajnigandha Pathmala (With Cd) - 6

author: Mrs Sanyukta Ludhra, Prabha Sharma, Jharna Bose,Dr. Suresh Pant, Shashi Prabha

व्याकरण लतिका Series CBSE संस्करण के अनुरूप है। यह Text-cum-Workbook के रूप में बनाई गई है। यह बच्‍चों के बस्ते का बोझ कम करने की दिशा में किया गया सार्थक प्रयास है। पुस्तक में दिए गए अभ्यास Worksheet के रूप में हैं। हँसो-हँसाओ, बूझो-बुझाओ, सामान्य अशुद्धियाँ, परिभाषाएँ एक नज़र में, जैसी सामग्री के साथ ही Web chart for quick Reference भी दिया गया है। CBSE संस्करण के भाग-6,7,8 में Sample Papers भी दिए गए हैं। 

© Copyright 2018 madhubun books. All Right reserved.